राम मंदिर बन गया, क्या गौ हत्या पर बैन लगाने के लिए बनेगा कानून?

राम मंदिर बन गया, क्या गौ हत्या पर बैन लगाने के लिए बनेगा कानून?

Cow slaughter act

Cow slaughter act

गौ हत्या का मामला भारत में हमेशा से विवादित रहा है। हिंदू समुदाय के धार्मिक संत-महात्मा हमेशा से गौ हत्या पर प्रतिबंध लगाने का कानून लाने की मांग करते रहे है, लेकिन राजनीतिक कारणों से यह मांग हमेशा पीछे छूट जाती रही है। विश्व हिंदू परिषद जैसे संगठन गौ हत्या पर प्रतिबंध लगाने की बात खूब जोरशोर तरीके से उठाते रहे है, लेकिन मुस्लिम सांप्रदायिकता का विरोध कर अपनी राजनीति करने वाली भाजपा भी गौ हत्या पर प्रतिबंध लगाने की बात पुरजोर तरीके से नहीं कह पाती है। इसका मूल कारण राजनीतिक मजबूरी ही माना जाता है।

Read also: शंभू बॉर्डर पर भारी भीड़, राज्यों के लोगों का किसानों को समर्थन

लोकसभा चुनावों के ठीक पहले शंकराचार्य अविमुक्तेश्वरानंद ने यह मांग की है कि गौ हत्या पर प्रतिबंध लगाने का कानून तत्काल पारित किया जाए। उन्होंने जनता से भी यह अपील की है कि वे केवल उन्हीं राजनीतिक दलों के उम्मीदवारों को वोट करे जो गौ हत्या पर प्रतिबंध लगाने का कानून बनाने का समर्थन करते हो। यूपी सरकार गोवंश को पालने के लिए जगह-जगह पर गोशालाएं-बाड़ों का इंतजाम कर उनमें गोवंश को रखने पर आर्थिक सहायता भी प्रदान कर रही है। इससे गोवंश की हत्या के साथ-साथ उनके आवारा पशुओं के रूप में घूमने पर भी रोक लगी है। लेकिन इसके बाद भी घूमते गोवंश बताते कि इस दिशा में अभी भी बहुत कुछ करने की आवश्यकता है। गौवंश पर काम करने वाले विशेषज्ञ बताते है, कि जब गाय दूध देना बंद कर देती है, तब किसानों के लिए यह एक भार बन जाती है।

उनके खानपान पर होने वाला खर्च उन्हें भारी पड़ने लगता है। वे उसे किसी भी मूल्य पर बेचकर कुछ पैसा पाना चाहते है। इस स्थिति में गोवंश को कसाइयों के द्वारा खरीदे जाने और उनकी हत्या होने की आशंका बढ़ जाती है। खेती के ज्यादातर कामकाज में मशीनों-ट्रैक्टर के उपयोग ने बैलों-सांड़ों को भी समाज के लिए अपेक्षाकृत बहुत अनुपयोगी बना दिया है। यही कारण है कि ये गौवंश कसाइयों के निशाने पर आ जाते है, लेकिन यदि किसानों को यह बात समझाई जा सके कि दूध न देने वाला गौवंश पालना भी घाटे का सौदा नहीं है। उनके मल-मूत्र को बेचकर भी उनके पालने से ज्यादा कमाई की जा सकती है, तो गायों-बैलों की कसाइयों को बिक्री पूरी तरह रुक सकती है। चूंकि, गाय के मूत्र से अनेक दवाइयां बन रही है, और गौवंश के गोबर से दीपक, इत्र, सजावटी वस्तुओं को बनाने का कारोबार लगातार आगे बढ़ रहा है, यह गौ हत्या को रोकने की दिशा में बड़ा कदम साबित हो सकता है। केंद्र-राज्य सरकारों के द्वारा इसे आगे बढ़ाए जाने की आवश्यकता है।स्वामी अविमुक्तेश्वरानंद ने कहा है कि आने वाले चुनाव में केवल उन्हीं राजनीतिक दलों को वोट दिया जाए जो गौ हत्या पर प्रतिबंध लगाने की बात पर लिखित तौर पर सहमत हों। केंद्र में हिंदू राजनीति को आगे बढ़ाने वाली सरकार के आने से लोगों में यह उम्मीद बढ़ी है कि अब गौ हत्या पर कानून बनेगा। इसकी मांग लंबे समय से की जा रही थी, लेकिन अब तक यह मांग पूरी नहीं हुई है। उन्होंने कहा कि अब सही समय है और गौ हत्या पर प्रतिबंध का कानून बनना चाहिए।

Cow slaughter act

About The Author

Advertisement

Latest News

हरियाणा में बोगस वोटिंग पर 2 पूर्व CM आमने-सामने हरियाणा में बोगस वोटिंग पर 2 पूर्व CM आमने-सामने
हरियाणा में पूर्व मुख्यमंत्री मनोहर लाल के सिरसा और रोहतक में बोगस वोटिंग पर दिए बयान पर पूर्व CM भूपेंद्र...
जम्मू में बस 150 फीट गहरी खाई में गिरी
लोगों ने फैसला कर लिया है, सर्वे आ चुका है कि आप 13-0 से जीत रही है: भगवंत मान
पंजाब के लोग 1 जून को अमित शाह की धमकी का जवाब देंगे, भाजपा की जमानत जब्त कराएंगे - केजरीवाल
चंडीगढ़ में बोले अरविंद केजरीवाल - अच्छे दिन आने वाले हैं, मोदी जी जाने वाले हैं
T20 वर्ल्ड कप के लिए भारतीय अभियान शुरू, न्यूयॉर्क में ऐसा रहा पहला सेशन, 2 महीने बाद आए साथ
क्या था लाहौर घोषणापत्र, जिसके बाद पाक ने किया विश्वासघात, अब शरीफ ने कहा-हमारी गलती थी