मृतक कैदी बासन सिंह पुत्र गुरदयाल सिंह के शव को कब्जे में लेने के संबंध में

मृतक कैदी बासन सिंह पुत्र गुरदयाल सिंह के शव को कब्जे में लेने के संबंध में

अमृतसर 1 जनवरी 2024 कैदी बाल सिंह पुत्र गुरदयाल सिंह उम्र लगभग 57 वर्ष, कद 5’11” रंग सांवला निवासी सैफलाबाद, थाना फत्तूढीगा, जिला कपूरथला जो माननीय न्यायालय में मुकदमा संख्या 158 दिनांक 08.09.2005 धारा 377,302 आईपीसी थाना में है। झबल जिला तरनतारन को आजीवन कारावास की सजा श्री जीएस संधू अतिरिक्त सत्र न्यायाधीश, अमृतसर द्वारा […]

अमृतसर 1 जनवरी 2024

कैदी बाल सिंह पुत्र गुरदयाल सिंह उम्र लगभग 57 वर्ष, कद 5’11” रंग सांवला निवासी सैफलाबाद, थाना फत्तूढीगा, जिला कपूरथला जो माननीय न्यायालय में मुकदमा संख्या 158 दिनांक 08.09.2005 धारा 377,302 आईपीसी थाना में है। झबल जिला तरनतारन को आजीवन कारावास की सजा श्री जीएस संधू अतिरिक्त सत्र न्यायाधीश, अमृतसर द्वारा 21.12.2006 को पारित की गई थी और उक्त कैदी केंद्रीय जेल, अमृतसर में सजा काट रहा था।

उक्त कैदी की मृत्यु दिनांक 30.12.2023 को हो गई तथा उसका शव डेड हाउस गुरु नानक देव अस्पताल, अमृतसर में है। जब मृतक कैदी के बताए गए पते पर फत्तूढीगा, कपूरथला पुलिस स्टेशन से संपर्क किया गया तो उसके वारिसों ने उक्त कैदी का शव लेने से इनकार कर दिया और उन्होंने अपने बयान में कहा कि हमने उसे बिना किसी हस्तक्षेप के रखा है।

इस संबंध में यदि मृतक का कोई अन्य रिश्तेदार उसका शव लेना चाहता है तो अधीक्षक, सेंट्रल जेल, अमृतसर के कार्यालय में नोडल अधिकारी के मोबाइल नंबर 70097-36288 और 9814141404 पर संपर्क करें।

Tags:

About The Author

Advertisement

Latest News

हरियाणा में बोगस वोटिंग पर 2 पूर्व CM आमने-सामने हरियाणा में बोगस वोटिंग पर 2 पूर्व CM आमने-सामने
हरियाणा में पूर्व मुख्यमंत्री मनोहर लाल के सिरसा और रोहतक में बोगस वोटिंग पर दिए बयान पर पूर्व CM भूपेंद्र...
जम्मू में बस 150 फीट गहरी खाई में गिरी
लोगों ने फैसला कर लिया है, सर्वे आ चुका है कि आप 13-0 से जीत रही है: भगवंत मान
पंजाब के लोग 1 जून को अमित शाह की धमकी का जवाब देंगे, भाजपा की जमानत जब्त कराएंगे - केजरीवाल
चंडीगढ़ में बोले अरविंद केजरीवाल - अच्छे दिन आने वाले हैं, मोदी जी जाने वाले हैं
T20 वर्ल्ड कप के लिए भारतीय अभियान शुरू, न्यूयॉर्क में ऐसा रहा पहला सेशन, 2 महीने बाद आए साथ
क्या था लाहौर घोषणापत्र, जिसके बाद पाक ने किया विश्वासघात, अब शरीफ ने कहा-हमारी गलती थी